weird marriage rituals

भारत देश अनोखी परंपराओं रीतिरिवाज के लिए जाना जाता है. इनमें से तो कुछ रीतिरिवाज ऐसे होते है जिनपर विश्वास कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है. तो वहीं, कुछ रस्में ऐसी भी होती है जिनके बारें में सुनकर ही हंसी जाती है. हैरत तो तब होती है जब आज इक्कसीवीं सदी में भी लोग केवल इन रीतिरिवाजों पर यकीन करते है बल्कि उन्हें मानते भी है. आज इस लेख के जरिए हम आपको एक ऐसी ही शादी से जुड़ी अजीबोगरीब रस्म के बारें में बताएंगें. जिसे सुनकर आपको बेहद हैरानी होगी.

गौंड जनजाति
गौंड जनजाति

दरअसल, आज भी ऐसी बहुत सी जनजातियां और आदिवासी जातियां है,  जो आज भी सदियों से चली आ रही प्रथाओं को मानते हुए शादी की रस्में निभाते आ रहे हैं. दरअसल, आज भी इन लोगों पर आधुनिक जीवन का कोई प्रभाव नहीं पड़ा है और यह आज भी पुराने वक्त के अनुसार ही रहते है. वहीं, इस जनजाति में विवाह के दौरान एक ऐसी रस्म निभाई जाती है, जिसे सुनकर आप के पैरो तले जमीन खिसक जाएगी. मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के अंदरूनी क्षेत्रों में रहने वाली गौंड जनजाति के लोग शादी के दौरान एक बहुत ही अनोखी परम्परा का निर्वाह आज भी किया जाता है.

Gonda weird marriage rituals
Gonda weird marriage rituals

बता दें, यहां शादी को तब तक सपन्न नहीं माना जाता है जब तक कि दूल्हा किसी जानवर को मारकर उसका खून ना पी लें. जानवर भी कोई ऐसा वैसा नहीं, सिर्फ सूअर. दरअसल, इस रस्म को निभाने के लिए दूल्हे के परिवार वाले बारात के साथ एक जिंदा सूअर भी लाते है और जब विवाह की सारी रस्में कुशल मंगल से पूरी हो जाती है. तो दूल्हे को अपने साथ लाए सूअर को मारकर उसके पैर का खून पीना होता है.  लेकिन, अगर दूल्हा ऐसा नहीं करता है तो विवाह को अधूरा माना जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *