Uluru Ayers Rock Facts
Uluru Ayers Rock Facts

ज्यादातर लोगों को घूमने फिरने का शौक होता है और अक्सर वो ऐसी जगहों की तलाश में रहते है जो एडवेंचर और आश्चर्य से भरपूर हों. वहीं, दुनिया में भी कई ऐसी जगह और चीजें हैं जो दिखने में अजीबो-गरीब होने के साथ-साथ दर्शकों को अपनी सुंदरता से अपनी तरफ आकर्षित करती हैं. तो चलिए आज हम आपको एक ऐसी चट्टान के बारें में बताएंगें जो  ऊंची होने के साथ साथ अपना रंग भी बदलती रहती है.

जी हां, हम बात कर रहे है विश्व की सबसे ऊंची और बड़ी चट्टान की जो ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी क्षेत्र में स्थित है. ऐसा माना जाता है कि एक बहुत बड़ी झील में स्थित यह विशालकाय चट्टान लाखों वर्ष पूर्व एक प्रायद्वीप था और लोग इसे आयर्स की चट्टान के नाम से जानते थे. लेकिन, वर्तमान में इस चट्टान को उलूरू रख के नाम से जाना जाता है. बता दें, दुनिया की यह सबसे बड़ी चट्टान ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी क्षेत्र में 348 मीटर की ऊंचाई पर और  9 किलोमीटर के घेरे में स्थित है.Know About Uluru

इस चट्टान की सबसे खास बात यह है कि सूर्योदय व सूर्यास्त के समय इसका रंग जलते हुए कोयले की भांति लाल हो जाता है और चट्टान भूरे, नारंगी, लाल, हल्के बैंगनी और चमकीले रंगों में परिवर्तित हो जाती है. इस चट्टान की खोज साल 1873 में डब्लू जी गोडसे नामक अंग्रेज यात्री ने की थी.  इसका नाम ऑस्ट्रेलिया तत्कालीन प्रधानमंत्री हेनरी आयर्स के नाम पर आयर्स रॉक रख दिया गया था.

वैज्ञानिकों की मानें तो इस चट्टान का निर्माण लगभग 300 लाख साल पहले जलवायु की स्थिति और पृथ्वी में बदलाव के कारण हुआ था और यह चट्टान आर्कोज की बनी है जोकि फेलस्पार, क्रार्ट्ज, रेत के कण, मिट्टी, लौह ऑक्साइड एवं अन्य छोटी चट्टानों का मिश्रण है.

Uluru (Ayers Rock)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *