Dragon Blood Treesकहते हैं कि पेड़ पौधों में भी जान होती है वो भी सांस लेते हैं. लेकिन अगर किसी पेड़ को काटने पर खून निकलने लगे, तो आप थोड़े से हैरान ज़रूर हो जाएंगे. जी हां, दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले इन खास पेड़ों को काटने पर उनमें से लाल खून बहने लगता है. बता दें, यह वृक्ष न तो चमत्कारिक है और न रहस्यमयी लेकिन अगर इस पेड़ की कोई डाल गिर जाए या फिर उसका तना कोई काट दे तो पेड़ से खून की धारा बहने लगती है. यह तरल पदार्थ देखने में खून जैसा होता है जो लगभग किसी जानवर के कटे अंग से बहने वाले खून का आभास देता है. वहीं, इस नजारे को देखने  के लिए बड़ी संख्या में टूरिस्ट यहां पहुंचते हैं.

Dragon Blood Trees 1
Dragon Blood Trees 1

दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले इस अनोखे पेड़ को किआट मुकवा, मुनिंगा और ब्लडवुड ट्री के नाम से जाना जाता है. ब्लडवुड ट्री की खासियत ही इन्हें बाकी सभी पेड़ों की प्रजातियों से अलग बनाती है. इसकी बनावट भी बाकी पेड़ों से भिन्न होती है.ब्लडवुड पेड़ की लंबाई लगभग 12 से 18 मीटर होती है जिस पर गहरे भूरे रंग की छाल होती है. इतना ही नहीं, इनके ऊपरी सिरे पर छतरी का आकार होता है, जिसे देखकर लगता है कि मानो पेड़ के सिर पर कोई मुकुट हो और इस ट्री पर घने पत्ते और पीले रंग के फूल खिलते हैं.

Dragon's Blood trees

वहीं स्थानीय लोगों इसे जादुई पेड़ मानते है क्योंकि इंसान के खून में होने वाली बीमारियां इस पेड़ के खून से ठीक हो जाती है. हालांकि, स्थानीय लोग पेड़ के रंग का इस्तेमाल अपनी चीजों को रंगने के लिए करते हैं, जबकि कुछ लोग इसे जादुई रंग भी कहते हैं. वहीं किन्हींकिन्हीं क्षेत्रों में इस तरल पदार्थ को पशु की वसा के साथ मिलाकर चेहरे और शरीर के लिए बनने वाले कॉस्मेटिक में भी इस्तेमाल किया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *