विधवा

हमारे देश के हर राज्य में अलग-अलग तरह की परंपराएं और रीति रिवाज़ हैं. जिसके नाम पर कभी-कभी महिलाओं के साथ अत्याचार किया जाता है. वहीं, आज हम आपको ऐसी ही एक परंपरा के बारें में बताने जा रहे है जिस पर यकीन कर पाना थोड़ा मुश्किल होगा.  दरअसल उत्तरप्रदेश में एक ऐसा गांव है जहां पर महिलाएं शादीशुदा होते हुए भी तीन महीने तक विधवा की जिंदगी जीती है.widows

बता दें कि ये मामला यूपी के दवरिया के भेलवाड़ा जिले का है, जहां पर सुहागिन औरतें हर साल तीन महीनों तक कोई श्रृंगार नहीं करतीं.  इस दौरान वो न केवल सादे कपड़े पहनती है बल्कि एक विधवा की तरह जिंदगी भी जीती है. इस परंपरा का पालन साल में मई से लेकर जुलाई के महीने तक किया जाता है, जिस वजह से पूरे गांव में मायूसी और मातम का माहौल छाया रहता है.vrindavan widows

वैसे इस प्रथा के पीछे की वजह थोड़ी सी अजीब है, दरअसल इन्ही तीन महीनों के दौरान  वहां के मर्दों को पेड़ों से ताड़ी निकालनी पड़ती है और ये पेड़ 50 फिट से भी ज्यादा ऊंचे और स्पाट होते हैं. जिस वजह से कई आदमियों की मौत भी हो जाती है. इसी वजह से जब यहां के मर्द घर से बाहर निकलते है तो महिलाएं गांव में ऐसा माहौल बना लेती है. पंरतु, जब उनके पति सही सलामत घर लौटते है तो न केवल उनका ज़ोरदार स्वागत किया जाता है बल्कि पूरा गांव जश्न के रंग में डूबा हुआ होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *