पाकिस्तान में हिन्दुओ की हालत है ख़राब आइये जाने कैसे

पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मोहम्मद अली जिन्ना ने 11 अगस्त 1947 को पाकिस्तान की जनता को संबोधित करते हुए कहा था की सभी पाकिस्तानी को उनके धर्मस्थलो पर जाने का अधिकार होगा और गेर मुस्लिम अपनी धार्मिक भावना के लिए स्वतंत्र होंगे |
लेकिन इस बात के होते हुए भी भारतवर्ष की एकता का खंडन करते हुए जिन्ना की बातो पर लोग कितना खरे उतरे है ये बात इसी पता लगा सकते है की विभाजन के समय 24 फीसदी हिंदु पाकिस्तान में गए थे जिसमे से अब इतने सालो बाद सिर्फ सिमट के 1.5 फीसदी ही रह गए है |


पकिस्तान में योजना के अनुसार हिन्दुओ को हटाया जा रहा है हमने पाकिस्तान में हिन्दुओ की स्थिति को कुछ बिन्दुओ में स्पष्ट किया है आइये जाने उन बिन्दुओ को |
1. इस्लामाबाद में स्थित मानवाधिकार संस्था के अनुसार पाकिस्तान में हर वर्ष 1000 गेर मुस्लिम लडकियों का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है सबसे भयावह ये है की इसके लिए लडकियों का बलात्कार किया जाता है ऐसे ही कई लडकियों को इसका शिकार बनाया जा रहा है |


2. पाकिस्तानी हिन्दू काउंसिल के अनुसार अकेले सिर्फ सिंध प्रान्त से हर महीने 20 हिन्दू लडकियों का धर्म परिवर्तन कराया जाता है यहाँ पर हिंदु परिवारों से धर्म परिवर्तन ना करने के लिए फिरौती ली जाती है |
3. पाकिस्तान में गैर मुस्लिमो द्वारा स्वंतत्र व्यापार करना दुरूह है व्यापार करने के लिए मूक रूप में ही सही है पर एक मुस्लिम पार्टनर बनाना जरुरी है पाकिस्तान के लोग हिन्दुओ को इस्लाम के लिए खतरा मानते है |


4. हिंदु और सिख पाकिस्तान में भारत के प्रतीक समझे जाते है इसलिए जब भी भारत पाकिस्तान के बीच किसी भी प्रकार का द्वेष होता है चाहे वो किसी भी बात से रिलेटेड हो उसमे हिन्दुओ का ही नुकसान किया जाता है |


5. धार्मिक स्वतंत्रता का जो छलावा पाकिस्तान ने रच रखा है। उसके अनुसार पाकिस्तान के हर छात्र को स्कूल में कुरान पढना जरूरी है। इसकी अवमानना ईशनिंदा की परिधि में आती है। यदा-कदा इस कानून की आड़ में कट्टरपंथी निर्दोष हिन्दुओं और अन्य गैर इस्लामियों के साथ अत्याचार करते हैं।

आइये जाने बिग बॉस 12 के लिए फाइनल हो चुके कंटेस्टेंट के बारे में | Big Boss 12 Contestant

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *