Best way to Study
Best way to Study

आजकल पढ़ाई का तरीका पहले जैसा नहीं है. पहले जानकारी प्राप्त करने के साधन सीमित थे, लेकिन अब पढ़ाई का तरीका बदल गया है. बाजार में किसी भी विषय को समझने के लिए कई किताबें मौजूद हैं. दूसरे, इंटरनेट का दायरा तो असीमित है. इसके अलावा कई टीचर्स ने पढ़ाने के लिए यूट्यूब चैनल भी शुरू किए हैं. कुछ वेबसाइट्स भी हैं, जो स्टूडेंट्स के लिए फायदेमंद है. ऐसे में जानते हैं, परीक्षा की तैयारी कैसे करें, जिससे आप सफल हो सकते हैं.

पैटर्न बनाएं

परीक्षा की तैयारी के लिए हर किसी का पढ़ने का अलग तरीका और क्षमता होती है. कोई चीजों को एक बार पढ़कर याद कर सकता है, तो किसी को ग्राफिक्स तौर पर इमेजिन कर लेने के बाद ही चीजें दिमाग में घुसती हैं. जब आप किसी विषय पर नोट्स बनाते हैं, तो शॉर्ट में जो तरीका सूट करता है, उस तरीके से नोट्स बनाने चाहिए.

कोड्स का इस्तेमाल 

परीक्षा के दौरान पढ़ते समय कई चीजें ऐसी होती हैं, जिन्हें समझना नहीं होता, केवल याद करना होता है. ऐसे में जब याद करना हो और नोट्स बना रहे हों, तो उनके नाम के पहले अक्षर को ध्यान में रखते हुए आसान नाम परिभाषित कर सकते हैं. इससे आपको चीजें क्रमश: याद हो जाएंगी.

पढ़ने में भी समझदारी 

किसी ने कहा है ‘कमाने जाना पढ़ने जाने से अधिक मुश्किल है’, लेकिन हम जब स्टूडेंट होते हैं, तो यही काम मुश्किल लगता है. पढ़ते समय अपना शत-प्रतिशत दें. नोट्स बनाते समय भी हर चीज को गौर से पढ़ें और ग्राफ और पैटर्न के जरिए जो महत्वपूर्ण चीजें हैं, उन्हें कवर करें. ऐसे में परीक्षा के समय आपको आसानी होगी. जो बच्चे पैटर्न बनाकर पढ़ते हैं, वो कम समय में दूसरों से अधिक सिलेबस कवर कर जाते हैं.

कम रहें सोशल 

एक्जाम प्रिपरेशन  के समय सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रखें. इसके अलावा परीक्षा के दौरान इंटरनेट का उपयोग तभी करें, जब आपको विषय से संबंधित जानकारी निकालनी या कुछ पढ़ना हो, ना कि फेसबुक, वॉट्सएप्प के लिए. इनसे दूर रहें.

मनोदशा बनाएं

केवल आप ही जानते हैं कि आपको क्या काम करना है? आप हल्के बैकग्राउंड म्यूजिक में काम कर सकते हो? या शुरू करने से पहले सामने खाना रखा हो? सुबह-सुबह और क्लासेस में ही अच्छी तरह से पढ़ सकते हो. यह मायने नहीं रखता कि आपका मूड कैसा है, बल्किये मायने रखता है कि आप काम के प्रति कितने ईमानदार हैं.

ग्रुप स्टडी 

जब आप सही स्टडी ग्रुप ढ़ूंढने  में सफल होते हैं, तो आसानी से कठिन विषय और कोर्स मटेरियल को भी हल कर लेते हैं. इससे यदि आपको कोई प्रश्न नहीं आ रहा है, तो दूसरे साथी की मदद ले सकते हैं.

टाइम-मैनेजमेंट

ये वह समय नहीं है, जो आपने पढ़ाई करने में बिताया, बल्कि वह समय है, कि उस समय में आपने क्या हासिल किया. 40 घंटे की परीक्षा की पढ़ाई करने में बिताना और अंत में उसमें केवल ‘सी’ ग्रेड मिलना, मतलब आप समय व्यर्थ गंवा रहे हैं, इसलिए स्टडी प्लान को विकसित करने की जरू रत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *