Old Pune Vs New Pune
Old Pune Vs New Pune

पुणे वैसे तो महाराष्ट्र राज्य की दूसरी सबसे बड़ी सिटी है. लेकिन इसी के साथ ये एक ऐसी सिटी भी है जो तेजी से विकास कर रही है. भारत की महिलाओं की दृष्टि से सबसे सुरक्षित सिटीज में पुणे का भी नाम लिया जाता है. पुणे को उसके पौराणिक, धार्मिक और ऐतिहासिक स्मारकों के चलते भी जाना जाता है. इन दिनों ये पर्यटकों के लिए नया डेस्टिनेशन भी बनती जा रही है. हम अगर पिछले कुछ दशकों में पुणे शहर कैसे तेजी से बदल रहा है ये जानने के लिए इन चंद तस्वीरों पर नजर डाले तो हमें पुणे के इस बदलाव पर आसानी से यकीन नहीं होता. पिछले 20 वर्षों में पुणे का तेजी से विकास हुआ है. कुछ प्लेसेस और साइट्स का तेजी से परिवर्तन भी पुणे ने देखा है.

खड़कवासला डैम

19 वीं सदी में जब पूर्व पुणे को सूखे की मार सहनी पड़ी थी तब खड़कवासला लेक बहुत मददगार साबित हुआ था. इसका निर्माण ब्रिटिश आर्मी आॅफिसर कैप्टन फाइफ ने 1863 में कराया था. इसलिए इसे लेक फाइफ भी बोला जाता है.

खड़कवासला डैम पुणे Old
खड़कवासला डैम पुणे Old

आज ये डैम मस्तानी शाम बिताने का पुणे के लोगों का फेवरिट डेस्टिनेशन बन गया है. शनिवार, रविवार और छुट्टियों के दिनों में तो इस स्थान पर बहुत ज्याादा भीड़ रहती है. यहां पर बहुत ज्यादा मात्रा में मोर पाए जाते है. इसीलिए इसे खड़कवासला नाम दिया गया है. इसकी जिम्मेदारी अब एनडीए को सौंपी गई है.

खड़कवासला डैम पुणे New
खड़कवासला डैम पुणे New

महात्मा फुले मंडई

इस बिल्डिंग का निर्माणकार्य पुणे मुंसीपालिटी द्वारा वर्ष 1882 में शुरू किया गया था. इसे रे मार्केट कहा जाता था और यहां पर मुंसीपालिटी का आॅफिस भी चलाया गया था.

महात्मा फुले मंडई पुणे Old
महात्मा फुले मंडई पुणे Old

महात्मा फुले मंडई का नया रूप देखने लायक है. पुणे के मध्य में स्थित शुक्रवार पेठ इलाके में ये मार्केट स्थित होने से इसे विशाल सब्जी मार्केट का रूप हासिल हो गया है.

महात्मा फुले मंडई पुणे New
महात्मा फुले मंडई पुणे New

लक्ष्मी रोड

ये रोड सबसे बड़े कमर्शियल स्ट्रीट के तौर पर जाना जाता रहा है. इस रोड पर ही पुणे के पुराने और फेमस इंस्टिट्यूट भी स्थित है.

लक्ष्मी रोड पुणे Old
लक्ष्मी रोड पुणे Old

आज ये इलाका दिवाली के दौरान लक्ष्मी पूजा का मुख्य वेन्यू बन जाता है. यहां अक्सर चहलपहल नजर आती है.

लक्ष्मी रोड पुणे New
लक्ष्मी रोड पुणे New

शनिवार वाडा

मराठा शासनकाल के दौरान पेशवाओं के लिए बना शनिवार वाडा असल में सात मंजीला इमारत थी. शनिवार वाडा को पांच गेट है. एक फव्वारा और पहला बाजीराव की प्रतिमा भी यहां लगी हुई है.

शनिवार वाडा पुणे Old
शनिवार वाडा पुणे Old

आज शनिवार वाडा पुणे आने वाले और पुणे में रहने वाले लोगों के लिए फेवरिट डेस्टिनेशन में शुमार हो गया है.

शनिवार वाडा पुणे New
शनिवार वाडा पुणे New

पार्वती टेंपल

पुणे के पार्वती हिल परिसर में ये मंदिर स्थित है. पेशवाओं के कार्यकाल दौरान इसका निर्माण किया गया था. मंदिर में पहुंचने के लिए पहाड़ी पर 103 सीढ़ियां चढ़ना पड़ता है.

पार्वती टेंपल पुणे Old
पार्वती टेंपल पुणे Old

पार्वती हिल पर स्थित मुख्य मंदिर को देवदेवेश्वर टेंपल कहा जाता है. ये एक धार्मिक मान्यता की साइट भी है. इसके अलावा अन्य मंदिर भी यहां स्थित है.

पार्वती टेंपल पुणे New
पार्वती टेंपल पुणे New

पुणे यूनिवर्सिटी

पुणे यूनिवर्सिटी की स्थापना 10 फरवरी 1949 को हुई. पहले इसे पुणे यूनिवर्सिटी कहा जाता था लेकिन बाद में इसका नाम सावित्री बाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी किया गया.

पुणे यूनिवर्सिटी पुणे Old
पुणे यूनिवर्सिटी पुणे Old

ये बदलाव 9 अगस्त 2014 को किया गया. आज पुणे यूनिवर्सिटी में 43 अकादमिक डिपार्टमेंट है. 411 एकर क्षेत्र में ये फैली है.

पुणे यूनिवर्सिटी पुणे New
पुणे यूनिवर्सिटी पुणे New

एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी

29 मार्च1968 को पुणे में एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी का निर्माण किया गया था. हालांकि इसने अक्तूबर 1969 से काम शुरू किया.

एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी पुणे Old
एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी पुणे Old

महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ में आज बड़ा कैम्पस भी है. और बहुत सारे कृषि कॉलेजेस भी इससे संलग्न किए गए है.

एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी पुणे New
एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी पुणे New

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *