Breaking News
Home / Bizarre News / विश्व का इकलौता ऐसा मंदिर, जहां होती है हनुमान जी की अनोखी प्रतिमा की पूजा

विश्व का इकलौता ऐसा मंदिर, जहां होती है हनुमान जी की अनोखी प्रतिमा की पूजा

Hanuman Temple

दुनिया में ऐसे कई रहस्यमयी मंदिर है लेकिन भारत को मंदिरों की नगरी कहा जाता है. वैसे तो आप बल और बुद्धि के देवता हनुमान जी के कई मंदिरों का दर्शन कर चुके होंगे. जहां पर आपको हनुमान जी की खड़ी, बैठी या लेटी हुई प्रतिमा के दर्शन हुए हो. लेकिन, सिर के बल खड़े हनुमान जी प्रतिमा न केवल चमत्कारिक और दुर्लभ है बल्कि अप्राप्य भी है.

दरअसल मध्य प्रदेश की सांस्कृतिक नगरी कहे जाने वाले इंदौर शहर से 25 किलोमीटर दूर उज्जैन रोड़ पर स्थित सांवेर नामक स्थान पर यह अद्भुत और रहस्यमयी मन्दिर स्थित है. जहां पर हनुमान स्वामी की उल्टी प्रतिमा स्थापित है. बता दें, पूरे विश्व में यह एकमात्र ऐसा मन्दिर है, जहां पर हनुमान जी की मूर्ति इस तरह से लगी हुई है. इस मंदिर को पाताल विजय हनुमान मंदिर भी कहा जाता है.Historical Hanuman Temple

यहां प्रचलित मान्यता के अनुसार इस मंदिर की कथा रामायण काल से जुड़ी है. बता दें कि रामायण के एक प्रसंग अनुसार, जब भगवान श्रीराम और रावण का युद्ध हो रहा था. तब रावण के मित्र पातालराज अहिरावण ने एक चाल चली. उसने वेश बदल कर स्वयं को राम की सेना में शामिल कर लिया. एक रात्रि जब सभी लोग सो रहे थे, तब अहिरावण ने अपनी मायावी शक्ति से श्रीराम और लक्ष्मण को मूर्छित करके उनका अपहरण कर लिया था और वह उन्हें पाताल लोक ले गया. वानर सेना में इस बात का पता चलने पर हड़कंप मच गया और तब एक कबूतर-कबूतरी के वार्तालाप से हनुमान जी को पता लगा कि भगवान राम और लक्ष्मण जी को अहिरावण पाताल ले गया है, जहां उनकी बलि देने की तैयारी चल रही है. लेकिन, तभी हनुमान जी उन दोनों की खोज़ करने के लिए पाताल लोक पहुंच जाते हैं और भगवान राम और लक्ष्मण सहित अहिरावण से युद्ध कर उसका नाश कर देते हैं और इस तरह से वो न सिर्फ श्री राम और लक्ष्मण के प्राणों की रक्षा करते हैं बल्कि उन्हें पाताल से सुरक्षित बाहर भी निकाल कर लाते हैं. दरअसल जब हनुमान जी पाताल लोक जा रहे थे, तब उस समय हनुमान जी के पांव आकाश की ओर और सिर धरती की ओर था. यही वजह है कि यहां उनके इस उल्टे रूप की पूजा की जाती है.Sanwer Ujjain Hanuman Temple

इस मंदिर में पीपल, नीम, बरगद के साथ ही दो पारिजात के वृक्ष भी हैं. जहां हनुमानजी का वास माना जाता है. मंदिर के आसपास के वृक्षों पर तोतों के कई झुंड दिखाई देते हैं और कहा जाता है कि हनुमानजी ने एक बार तोते का रूप भी धारण किया था.दे श भर से हनुमानजी में आस्था रखने वाले लोग इस मंदिर में उनके दर्शन के लिए आते हैं और यहां पर उनके सभी भक्तों की हर एक मुराद पूरी होती है.

About Funduc

Check Also

Kangana Ranaut Affairs

अफेयर्स को लेकर चर्चा में रहती हैं कंगना राणावत

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना राणावत आज इंडस्ट्री की एक बड़ी एक्ट्रेस हैं. उनका प्रोफेशनल करिअर ऊँचाइयों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *