फीफा विश्व कप 2018 : 11 शहरों के इन खूबसूरत और शानदार 12 स्टेडियमों में खेले जा रहे है 64 मुकाबले

FIFA world cup 2018 held in these 12 stadiums in Russia

FIFA world cup 2018 held in these 12 stadiums in Russia

FIFA world cup 2018 held in these 12 stadiums in Russia

फीफा विश्व कप-2018 में बड़ी टीमों के बीच खेले जाने वाले मुकाबले जितने खास होते हैं उतने ही खास होते हैं वो स्टेडियम, जिनमें ये मुकाबले खेले जाते हैं. रूस में हो रहे फीफा विश्व कप के मैच 11 शहरों के 12 स्टेडियमों में खेले जाए रहे है और ये 12 स्टेडियम अपने आप में ही खास हैं. इन 12 स्टेडियमों में फीफा विश्व कप में 64 मैच खेले जाने हैं. इसमें सबसे खास है लुज्निकी स्टेडियम, जिसमें फीफा विश्व कप का पहला और फाइनल मैच खेला जाएगा.

लुज्निकी स्टेडियम :

  • शहर: मॉस्को,
  • कैपेसिटी: 81,006,
  • लागत : पुनर्निर्माण में 41 करोड़ डॉलर.

1956 में निर्मित हुआ यह स्टेडियम रूस की राजधानी मॉस्को में मोस्कवा नदी के किनारे स्थित है. पहले इसका नाम सेंट्रल लेनिन था. 450 दिन में बनकर तैयार हुआ यह स्टेडियम 1980 मॉस्को ओलम्पिक खेलों का मुख्य केंद्र था. 1990 में इसका पुन: निर्माण किया गया और इसके बाद इसका नाम लुज्निकी रखा गया.  इसमें 1999 में यूईएफए फाइनल और 2008 में चैम्पियंस लीग फाइनल मैच हुआ और ऐसे में यह स्टेडियम कई यादें संजोए बैठा है. 2018 में मरम्मत के दौरान इसके स्टैंडों को दो टायरों में विभाजित किया गया. इसमें ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट, सेमीफाइनल-2 और फाइनल मैच खेला जाएगा.

लुज्निकी स्टेडियम
लुज्निकी स्टेडियम

स्पार्टक स्टेडियम :

  • शहर: मॉस्को
  • कैपेसिटी: 43,298
  • लागत: 25 करोड़ डॉलर

मॉस्को शहर में ही स्थित 2014 में निर्मित स्पार्टक स्टेडियम में 43,298 प्रशंसक एक समय पर बैठ सकते हैं. यह स्पार्र्टक मॉस्को क्लब का घरेलू मैदान है. चेनमेल से सजा हुआ यह स्टेडियम बाहर से स्पार्ताक क्लब के लाल और सफेद रंग से रंगा हुआ है. हालांकि, इन रंगों को स्टेडियम में खेलने वाली टीमों के मुताबिक बदला भी जा सकता है. इसमें ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट का मैच भी खेला जाएगा.

स्पार्टक स्टेडियम
स्पार्टक स्टेडियम

निजनी नोवगोरोड स्टेडियम :

  • शहर: निजनी नोवगोरोद
  • कैपेसिटी: 45,331
  • लागत: 30.7 करोड़ डॉलर.

नीले रंग में रंगा यह गोलाकार स्टेडियम निजनी नोवगोरोड शहर में स्थित है. वोल्गा क्षेत्र में प्रकृति से प्रेरित इस स्टेडियम एक समय पर 45,331 एक साथ लाइव मैच देख सकते हैं. यह हवा और पानी अस्तित्व को दर्शाता है. 2015 में इसका निर्माण हुआ था. इसमें ग्रुप स्तर के अलावा, अंतिम-16 दौर के साथ क्वार्टर फाइनल-1 का मैच भी खेला जाएगा.

निजनी नोवगोरोड स्टेडियम
निजनी नोवगोरोड स्टेडियम

मोडरेविया एरीना :

  • शहर: सरांस्क
  • कैपेसिटी: 44,442
  • लागत: 29.5 करोड़ डॉलर.

आॅरेंज, सफेद और लाल रंग से सजा सरांस्क में स्थित मोडरेविया एरीना स्टेडियम का मैदान 2010 में खराब हो गया था. फंड में कमी के कारण इसके निर्माण में देरी हुई और इसीलिए, यह 2017 के अंत तक पूरी तरह से बनकर तैयार नहीं हो पाया था. इसमें अभी 45,000 प्रशंसकों के बैठने की कैपेसिटी है, लेकिन फीफा विश्व कप के बाद इसके अपर टायर को हटा दिया जाएगा. ऐसे में कुल 28,000 लोग ही इसमें बैठ पाएंगे. इसमें केवल ग्रुप स्तर के मैच होंगे.

मोडरेविया एरीना
मोडरेविया एरीना

कजान एरीना :

  • शहर: कजान
  • कैपेसिटी: 44,77 9
  • लागत: 25 करोड़ डॉलर

कजान शहर में स्थित इस स्टेडियम का निर्माण आर्किटेक्चर्स ने किया है, जिन्होंने वेम्ब्ले और एमिरात स्टेडियमों का निर्माण किया. जुलाई, 2013 में बनकर तैयार हुए इस स्टेडियम में 44,779 दर्शक बैठ सकते हैं. यह स्थानीय लोगों की संस्कृति को दर्शाता है. इसमें ग्रुप स्तर के साथ-साथ अंतिम-16 दौर और क्वार्टर फाइनल-2 के मैच खेले जाएंगे.

कजान एरीना
कजान एरीना

समारान एरीना (कॉसमोस):

  • शहर: समारा
  • कैपेसिटी: 44,807
  • लागत: 31 करोड़ डॉलर

समारा शहर के वोल्गा नदी के तट पर बने इस महत्वाकांक्षी स्टेडियम का निर्माण भी मुश्किल से समय पर पूरा हुआ. इसका गुंबद शीशे से बना है जिस पर रूस के अंतरिक्ष कार्यक्रम में समारा का इतिहास दिखाया गया है. समारा शहर के प्रसिद्ध एयरोस्पेस क्षेत्र को प्रतिबिंबित करने के लिए इस स्टेडियम को अंतरिक्ष यान के रूपरंग में बनाया गया है. विश्व कप के समापन के बाद इसका नाम बदलकर कॉसमोस एरीना रखा जाएगा. ग्रुप मैचों के अलावा, इसमें नॉकआउट और चौथा क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाएगा.

समारान एरीना (कॉसमोस)
समारान एरीना (कॉसमोस)

एकातेरिना स्टेडियम :

  • शहर: येकातेरिनबर्ग
  • कैपेसिटी: 35,696
  • लागत: पुनर्निर्माण के लिए 22 करोड़ डॉलर.

रूस के चौथे सबसे बड़े शहर एकातेरिनबर्ग में स्थित यह स्टेडियम को 1953 में बनाया गया था. अस्तित्व में आने से पहले ही यूराल पर्वत के शहर येकातेरिनबर्ग का यह स्टेडियम अपने असामान्य डिजायन के लिए प्रसिद्ध है. इसके बाद, 2007 और 2011 में इसका पुन:निर्माण किया गया. 35,000 लोग इसमें एक समय पर बैठकर लाइव मैच देख सकते हैं. विश्व कप के बाद इसकी 12,000 अस्थायी सीटों को हटा दिया जाएगा, जिसके बाद इसमें केवल 23,000 लोग ही बैठ पाएंगे. इसमें ग्रुप मैच ही खेले जाएंगे.

एकातेरिना स्टेडियम
एकातेरिना स्टेडियम

सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम :

  • शहर: सेंट पीटर्सबर्ग
  • कैपेसिटी: 68,134
  • लागत: 73.5 करोड़ डॉलर.

साल 2007 में इसके मैदान को तोड़कर फिर से नया बनाया गया था, जो 2009 में तैयार होना था. हालांकि, कई बार देरी होने के बाद यह 2017 में बनकर तैयार हुआ. 68,134 सीटों वाला नीले रंग में ढका यह स्टेडियम विश्व के तकनीकी रूप से उन्नत बेहतरीन स्टेडियमों में से एक है. अंतरिक्ष यान की तरह दिखने वाले इस स्टेडियम ग्रुप के अलावा, इसमें फीफा नॉकआउट और सेमीफाइनल-1 का मैच खेला जाएगा.

सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम
सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम

कालिनिग्रेड स्टेडियम :

  • शहर: कैलिनइनग्राद
  • कैपेसिटी: 35,212
  • लागत: 30 करोड़ डॉलर.

बाल्टिक सागर के पास स्थित कालिनिग्रेड शहर रूस के बाकी हिस्सों से कटा हुआ है. यह पोलैंड और लिथुआनिया के बीच स्थित है. यह स्टेडियम बायर्न म्यूनिख क्लब के एलियांज एरीना के डिजाइन पर आधारित है. 35,000 सीटों वाला यह स्टेडियम फीफा विश्व कप के ग्रुप स्तर के मैच आयोजित करेगा. इस टूनार्मेंट के बाद स्टेडियम की 10,000 सीटों को हटा दिया जाएगा.

कालिनिग्रेड स्टेडियम
कालिनिग्रेड स्टेडियम

वोल्गोग्राड स्टेडियम :

  • शहर: वोल्गोग्राद
  • कैपेसिटी: 45,568
  • लागत: 30 करोड़ डॉलर

वोल्गा नदी के पास वोल्गोग्राड शहर में स्थित 45,568 सीटों वाला यह स्टेडियम की छत का निर्माण साइकिल के पहियों के डिजाइन की तरह किया गया है. यह छोठे शंकु के उल्टे आकार पर आधारित होकर बनाया गया है. इसमें विश्व कप के ग्रुप स्तर के मैच होंगे और इसके बाद यह रोटोर वोल्गोग्राड का घरेलू मैदान बन जाएगा.

वोल्गोग्राड स्टेडियम
वोल्गोग्राड स्टेडियम

रोस्तोव एरीना :

  • शहर: रोस्तोव-आॅन-डॉन
  • कैपेसिटी: 45,145
  • लागत: 33 करोड़ डॉलर.

रोस्तोव-आॅना-डॉन शहर में स्थित इस स्टेडियम का निर्माण 2013 में शुरू हुआ था, जिसमें देरी होती गई और 2018 के शुरूआत में बनकर तैयार हुआ. इसमें 45,145 लोग बैठ सकते हैं. ग्रुप स्तर के साथ इसमें नॉकआउट का एक मैच खेला जाएगा. दक्षिणी रूस में बने स्टेडियम में खेलने वाली टीमों को गर्मी से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

रोस्तोव एरीना
रोस्तोव एरीना

फिश्ट स्टेडियम :

  • शहर: सोची
  • कैपेसिटी: 47,700
  • लागत: प्रारंभिक निर्माण के लिए 40 करोड़ डॉलर, फुटबॉल मैच के उपयुक्त बनाने के लिए 6.8 करोड़ डॉलर

सोचि शहर का यह स्टेडियम की छत दो भागों में बटी है, जो बफीर्ले पहाड़ों के आकार को दशार्ती है. इसका नाम माउंट फिश्ट पहाड़ी के नाम पर रखा गया है. इसमें फीफा विश्व कप के ग्रुप मैचों के अलावा, नॉकआउट और तीसरा क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाएगा. 47,700 लोग एक साथ बैठक लाइव मैच का आनंद ले सकते हैं.

फिश्ट स्टेडियम
फिश्ट स्टेडियम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *