देवदरवनिया चौकीदार मंदिर
देवदरवनिया चौकीदार मंदिर

इस बार लोकसभा चुनाव में चौकीदार शब्द सबसे ज्यादा सु्र्खियां बटोर रहा है. सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित केंद्र के सभी मंत्रियों और बीजेपी नेताओं ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट में नाम के आगे चौकीदार लगा लिया है. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे चौकीदार के बारें में बताएंगें, जिसे कई सदियों से पूजा जा रहा है.

दरअसल, गुजरात के नर्मदा जिले के डेडियापाड़ा तालुका के आदिवासी गांव देव मोगरा में चौकीदार को समर्पित देवदरवनिया चौकीदार मंदिर है. जहां लंबे समय से एकचौकीदारकी पूजा होती रही है. इस गांव के स्थानीय निवासियों का मानना है कि देवदरवनिया चौकीदार सालों से पिछले कई सालों से इस गांव की रक्षा कर रहे है.

देवदरवनिया चौकीदार मंदिर 1
देवदरवनिया चौकीदार मंदिर 1

मान्यता के मुताबिक, ‘एक बार पंडोरी माता नाराज होकर घर छोड़कर चली गई थीं. जिसके बाद राजा पंडादेव ने उनकी तलाश करनी शुरू की और अपना घोड़ा देव मोगरा गांव में रोका. इसलिए यह स्थान स्थानीय लोगों के लिए पूजनीय हो गया और बाद में यहां पंडोरी माता का एक मंदिर बनाया गया. इस मंदिर से कुछ दूरी पर देवदरवनिया चौकीदार का मंदिर भी बनाया गया है.’

Chowkidar Temple
Chowkidar Temple

वहीं, गांव के लोगों का मानना है  कि देवदरवनिया चौकीदार देवी और हमारे गांव की रक्षा करते हैं. ऐसे में जो भक्त पंडोरी माता की पूजा करने आते हैं, उन्हें पहले चौकीदार मंदिर के दर्शन करने होते हैं. वैसे, यहा पर केवल गुजरात ही नहीं बल्कि भारत के दूसरे राज्यों के श्रद्धालु भी यहां आकर पंडोरी माता के दर्शन करते हैं. बता दें, यहां दिवाली और नवरात्र के दौरान माता और देवदरवनिया चौकीदार के मंदिर में भक्तों की भीड़ बढ़ जाती है. वैसे, सबसे दिलचस्प यह है कि गुजरात में वैसे तो शराब की बिक्री बैन है. लेकिन, देवदरवनिया चौकीदार को लोग देशी शराब प्रसाद के रूप में चढ़ाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *