घर पर बनाएं एग्जाम हॉल का माहौल

12वीं के बाद हर छात्र का सपना होता है कि वह देश के नामचीन कॉलेज में उच्च शिक्षा हासिल करे. किसी भी अच्छे कॉलेज में दाखिले के लिए 85 से 90 फीसदी अंकों की जरूरत होगी. लिहाजा इस तरह तैयारी करनी चाहिए, जिससे इतने अंक हासिल किए जा सकें. इसके लिए घर से शुरुआत करें. घर का माहौल ऐसा बनाएं, जिससे आप बेहतर तरीके से परीक्षा की तैयारी कर सकें.

सभी विषय की समान तैयारी

अक्सर छात्र गणित और विज्ञान को कठिन मानते हैं. पूरा जोर और समय इन्हीं विषयों में लगा देते हैं. शिक्षाविदें का मानना है, परीक्षा में हर विषय की समान रूप से तैयारी करें. वहीं, जब रिजल्ट आता है, तो जिन विषयों को आसान समझ रहे थे, उन्हीं में नंबर कम आते हैं.

शिक्षकों से संवाद जरूरी 

परीक्षा से पहले छात्र पूरी तरह घर रहकर पढ़ाई करते हैं. यह सही नहीं है. अगर, स्कूल बंद हों, तो भी शिक्षकों से संपर्क बनाएं रखें. विषय में जो दिक्कत आ रही है, उसे दूसरों से पूछने की बजाय शिक्षक से पूछना फायदेमंद होगा. साथ ही मॉडल प्रश्नपत्र और पुराने प्रश्नपत्रों को जरूर हल करें. इससे पैटर्न समझने में सहायता मिलती है.

ऐसे करें तैयारी 

  • 10वीं के छात्र 5 व 12वीं के 7 घंटे रोजाना पढ़ाई करें.
  • किसी भी प्रकार का तनाव न लें.
  • छात्र बोर्ड परीक्षा को तनाव के रूप में न लें, उत्साहित होकर पढ़ाई करें.
  • याद किए गए विषय को लिखकर देखें. इससे लिखने की आदत बनी रहेगी.
  • पढ़ाई के लिए निश्चित समय का निर्धारण करें.

अभिभावकों के लिए 

  • बच्चों पर पढ़ने के लिए ज्यादा दबाव न बनाएं.
  • घर में बच्चों को पढ़ने के लिए अच्छा माहौल तैयार करें.
  • बच्चों को उत्साहित कर उनका आत्मविश्वास बढ़ाएं.
  • पढ़ाई में बच्चों का सहयोग करें.
  • खेलने, टीवी देखने आदि पर अनावश्यक रोक न लगाएं.

घर में दें डमी परीक्षा 

Practice-Tests

तैयारी का सबसे महत्वपूर्ण काम डमी परीक्षा लेना है. छात्र इस तरीके को नहीं आजमाते. बच्चे पुराने प्रश्नपत्र को हल तो करते हैं, लेकिन सही तरीके से नहीं. प्रश्नपत्र हल करने के लिए तीन घंटे का समय निश्चित करें. इसमें पूरा प्रश्नपत्र हल करें. इसका मूल्यांकन खुद या शिक्षक से कराएं और कमियों को सुधारें. इसकी आदत हो जाने पर फाइनल परीक्षा में दवाब कम हो जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *