कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय : कई कारणों से खास है कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय

University of Cambridge

University of Cambridge

वैसे तो कै म्ब्रिज विश्वविद्यालय किसी परिचय की मोहताज नहीं है. इंग्लैंड के कै म्ब्रिज शहर में स्थित इस विश्वविद्यालय का नाम दुनिया के टॉप 5 विश्वविद्यालयों में शुमार है. इंग्लिश देशों में दूसरा सबसे पुराना विश्वविद्यालय होने के साथ ही यह यूरोप का चौथा सबसे पुराना विश्वविद्यालय है. हाल में इस विश्वविद्यालय से 31 कॉलेज जुड़े हुए हैं.

यहां दुनियाभर के 18 हजार विद्यार्थी शिक्षा हासिल कर रहे हैं जबकि 11 हजार का स्टाफ कार्यरत है. दरअसल, 1209 में शहरवासियों से हुए विवाद की वजह से आॅक्सफोर्ड को छोड़ निकले प्रबुद्धजनों के संगठन ने इस विश्वविद्यालय की बुनियाद रखी थी. आॅक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय को संयुक्त रूप से आक्तिसब्रज भी कहा जाता है. बिट्रिश संस्कृति और इतिहास में घुलेमिले दोनों विश्वविद्यालय के बीच प्रतिद्वंदिता का एक लंबा इतिहास है.

दुनिया को दिए 98 नोबल विनर्स

इस विश्वविद्यालय की खास बात यह भी है कि सन 1904 से अब तक इस विश्वविद्यालय से जुड़े सर्वाधिक 98 विद्वानों ने नोबल पुरस्कार जीता है. यह उपलब्धि अपने आप में खास है क्योंकि इतने नोबल विनर्स देने वाला दुनिया का कोई दूसरा संस्थान नहीं है. खास बात यह भी है कि ऐसी कोई कैटेगरी नहीं, जिसका नोबल अवार्ड कैम्ब्रिज से जुड़े व्यक्ति ने ना जीता हो. कैम्ब्रिज से जुड़े विद्वानों ने 32 फिजिक्स, 26 मेडिसिन, 24 केमिस्ट्री, 11 इकोनॉमिक्स, 3 लिट्रेचर और 2 शांति के लिए पुरस्कार जीते हैं. कैम्ब्रिज की डोरोथी हॉडकिन को पहली महिला नोबल पुरस्कार विजेता बनने का गौरव प्राप्त है.

great personalities from cambridge

कैम्ब्रिज से जुड़ी हैं कई महान हस्तियां

वैसे तो कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से कई महान हस्तियां जुड़ी हुई हैं, जिनमें ज्यादातर वैज्ञानिक शामिल हैं. इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 1901 से दिए जा रहे दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण पुरस्कार ‘नोबल’ की सूचि में इस विश्वविद्यालय से जुड़े 98 लोग शामिल है. खास बात यह है कि इनमें भारतीय लोग भी शामिल हैं. सन 1998 में ट्रिनिटी कॉलेज के अमर्त्य सेन को अर्थशास्त्र कल्याण में उल्लेखनीय योगदान के लिए नोबल अवार्ड मिला था. वहीं, सुब्रमणियन चंद्रशेखर को 1983 में फिजिक्स में नोबल अवार्ड से नवाजा गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *