Do Good Grades Matters
Do Good Grades Matters

फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ में आमिर खान का एक डायलॉग खासा हिट हुआ था ‘सफलता के पीछे मत भागो, एक्सीलेंस का पीछा करो, कामयाबी झक पार के तुम्हारे पास आएगी.’  ये डायलॉग उन सभी स्टूडेंट्स और उनके पैरेंट्स के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, जो 90-95% अंकों को जीवन में सफलता की गारंटी मान बैठते हैं. पर अपने आस-पास नजर डालिए आपको कई ऐसे लोग मिल जाएंगे जो स्कूल-कॉलेज की परीक्षाओं में बेहतरीन नतीजे लाने के बावजूद करियर में बेहद साधारण प्रदर्शन कर रहे हैं. आखिर क्यों होता है ऐसा?

विषय को समझना है जरूरी

अक्सर स्कूली दिनों में रटंत विद्या को अपना मंत्र बना लेते हैं. यानी जैसा हमारी किताबों में लिखा है, हूबहू पैसा हम परीक्षाओं में लिख आते हैं, ऐसे में अंक कटने का तो सवाल हही नहीं उठता, जबकि ऐसे विद्यार्थी ज्यादातर ऐसे विषयों में अपनी समझ बनाने पर ध्यान नहीं देते. दूसरी ओर हमारे जीवन किसी भी विषय की गहराई से समझ ही आपको आगे ले जा सकती है.

स्मार्टनेस ले जाती है आगे

सीधी सी बात है, आपको जीवन में सफलता चाहिए तो स्मार्ट बनिए, आप किसी इंटरव्यू के लिए जाएं तो सबसे पहले आपकी स्मार्र्टनेस ही देखी जाती है वहां. स्कूल-कॉलेज की मार्कशीट्स तो बाद में मांगी जाती हैं. ऐसे कई उदाहरण हैं, जहां लोगों ने कम अंकों के बावजूद अपनी बुद्धि औरर स्मार्टनेस से सफलता पाई है. महात्मा गांधी और अल्बर्ट आइंस्टीन ऐसे ही दो नाम हैं. बता दें कि महात्मा गांधी को हाईस्कूल की परीक्षा में 40 प्रतिशत अंक मिले थे. इसी तरह आइंस्टीन भी स्कूली शिक्षा के दौरान कई विषयों में फेल हो गए थे.

महत्वपूर्ण है कि जिंदगी में क्या किया

किसी भी परीक्षा से विद्यार्थी की असल बौद्धिक स्तर का पता नहीं लगाया जा सकता, एक अनुमान भर मिलता है. दूसरी ओर ये भी तय है कि कोई एक परीक्षा और उसके नतीजे हमारी जिंदगी में हमें पास या फेल नहीं कर सकती. असल में जिंदगी में परीक्षाएं चलती ही रहती हैं. वो मौके देती ही रहती हैं. बस उन मौकों को समझने और  उनका सही फायदा उठाने की क्षमता खुद में पैदा करना जरूरी है.

हताश न हों

अगर किसी परीक्षा में आपको अपेक्षित अंक नहीं भी मिले हैं, तो हार मत मानिए. न ही अपना आत्मविश्वास डगमगाने दीजिए. अंकों के पहाड़ पर चढ़ना कतई जरूरी नहीं है. सीधी सरल पगडंडियों पर चलकर भी अपनी मंजिल तक पहुंचा जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *