वास्तु टिप्स
वास्तु टिप्स

आज की इस भागदौड़ भरी जीवनशैली में थकावट के साथ-साथ तनाव का होना आम बात है. लेकिन कभी-कभी इस तनाव की वजह से हमारे पारिवारिक व सामाजिक जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है. ऐसे में अक्सर लोग इससे छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर की सलाह लेते है, लेकिन इससे कोई फायदा नहीं होता. दरअसल, वास्तु के अनुसार हम जाने-अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां कर देते हैं, जिससे हमारा तनाव कम होने की बजाए और बढ़ जाता है. तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे छोटे-छोटे टिप्स बताते है जिसकी मदद से आप अपनी लाइफ को स्ट्रेस फ्री होकर जी सकते है.

  • अगर आपके बेडरूम में भी शीशा लगा है तो उसे हटवा दें या रात के वक्त उसे कपड़े से कवर कर दें क्योंकि वास्तु के अनुसार के बेडरूम में लगा शीशा तनाव को बढ़ाता है.
  • अगर आप रात में सोते समय अपना सिर उत्तर या पश्चिम दिशा में रखकर सोते है तो इसे तुरंत बदलें. बता दें, सोते समय आपका सिर हमेशा दक्षिण दिशा में होने से ना केवल आपको नींद अच्छी आएगी बल्कि आपका दिमाग भी शांत रहेगा.
  • घर में जाले न लगने दें व पूरे घर को साफ-स्वच्छ रखें. इसके अलावा, ताजे, खुशबूदार फूल प्रतिदिन गुलदस्ते में लगाएं.
  • पॉजिटिव एनर्जी बनी रहे इसके लिए घर में फिश एक्वेरियम रखें. ध्यान रखें कि एक्वेरियम उत्तर दिशा में रखा हो.
  • इसके अलावा, रात को सोने से पहले रसोईघर में जूठे बर्तन न रखें क्योंकि इससे घर में दरिद्रता का वास होता है.
  • घर की दीवारों, खिड़कियों, पर्दों और दरवाजों के लिए हल्के रंगों का ही चुनाव करें. डार्क कलर से नीरसता के साथ-साथ मन में उदासी छाई रहती है. जबकि हल्के रंगों से घर में खुशनुमा माहौल पैदा होने के अलावा मन में ताजगी भरी रहती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *