कुछ लोग भारत के कानून को लचर और कुछ सख्त मानते हैं. जो भी हो, ये बात जरूर है कि कानून की किताब में कुछ नियम तो इतने अजीब हैं, वे न केवल खीझ पैदा करते हैं, बल्किमौजूदा समय में उनका कोई सरोकार भी नहीं. इनमें से अधिकांश तो अंग्रेजों के जमाने के हैं. 19वीं सदी के कानूनों को 21वीं लागू करना असंगत लगता है. ऐसे ही कुछ कानूनों पर नजर डालते हैं.

खुदकुशी

रोजाना अखबारों में आत्महत्या की खबरें पढ़ने को मिलती हैं. कई बार व्यक्ति असफल भी रहता है. आपको पता है कि आईपीसी की धारा 309 के तहत खुदकुशी में नाकाम रहने पर सजा का प्रावधान है.

तीसरी संतान पर जुर्माना

केरल में दो बच्चों के बाद तीसरे बच्चे पर 10 हजार रु पए बतौर जुर्माना वसूला जाता है. दरअसल, यहां दो संतान का नियम सख्ती से लागू करने के लिए यह प्रावधान किया गया है.

अल्कोहल की भी होम डिलिवरी

अगर आप दिल्ली में हैं और घर पर शराब मंगवाना चाहते हैं, तो ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि यहां अल्कोहल की होल डिलीवरी पर प्रतिबंध है. इसे आपको दुकान पर जाकर ही खरीदना होगा.

पेय पदार्थो पर अलग-अलग कानून

3D illustration of FOOD AND BEVERAGES LAW title on Legal Documents. Legal concept.

आपको जानकर हैरानी होगी कि अल्कोहल सेवन के लिए वैध आयु सीमा सभी राज्यों में अलग-अलग है. गोवा में इसकी निम्नतम आयु 18 वर्ष, जबकि हिमाचल प्रदेश, यूपी, सिक्किम, पुडुचेरी और महाराष्ट्र में यह 25 वर्ष है.

मजबूत दांत होंगे, तभी बनेंगे व्हीकल इंस्पेक्टर

आखिर मजबूत दांतों का वाहन निरीक्षक से क्या संबंध है?, लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि आंध्र प्रदेश में इसी मापदंड पर यह नौकरी दी जाती है.

चाकू का इस्तेमाल

कहते हैं लड़ाई में सब जायज है, लेकिन भारतीय सैनिक पर प्रतिबंध है. लड़ाई के दौरान वह चाकू का इस्तेमाल नहीं कर सकते, लेकिन नागालैंड में इसकी छूट है.

इंटरनेट सेंसरशिप

वेबसाइट्स पर आपित्तजनक कंटेंट की निगरानी सरकार के लिए संभव नहीं है. ऐसे में पोर्न वेबसाइट पर यूजर्स को रोकने के लिए यहां इंटरनेट सेंसर का कानून है.

भारतीय टेलिग्राफ एक्ट

हालांकि वर्तमान में टेलिग्राफ सेवाएं अप्रचलित हैं. इसके बावजूद यहां अभी भी टेलीग्राफ एक्ट है, जिसे ब्रिटिश सरकार ने वर्ष 1885 में पारित किया था.

पुरु ष को सजा, महिला को नहीं

इंडियन पीनल कोड, 1860 के सेक्शन 497 के मुताबिक, देश में अगर कोई पुरु ष शादी के बाद दूसरी महिला से संबंध रखता है, तो उसे सजा मिलेगी, लेकिन अगर महिला ऐसा काम करती है, तो उसके लिए ऐसा नहीं है.

पतंग उड़ाने के लिए भी अनुमति

भारतीय एयरक्र ाफ्ट एक्ट 1934 के तहत बिना पुलिस की परमिशन लिए गुब्बारे और पतंग उड़ाना गैरकानूनी है.

सरकार कभी भी ले सकती है आपकी जमीन

द लैंड एक्वीजिशन एक्ट 1894 के तहत सरकार किसी भी समय आपके न चाहते हुए भी जमीन खरीद सकती है.

दिन ढलने पर महिला की गिरफ्तारी नहीं

– सूर्य छिपने के बाद और सूर्य निकलने से पहले पुलिस महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती. गंभीर मामलों में मजिस्ट्रेस्ट की लिखित अनुमति के बाद ही ऐसा किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *