underwater museum

अभी तक हमें अंडरवॉटर म्यूज़ियम देखने के लिए  अपना देश छोड़ विदेश जाना पड़ता था. लेकिन, अब जल्द ही भारत में भी ऐसा नज़ारा देखने को मिलेगा. दरअसल, अब जल्द ही पुडुचेरी में पहला अंडरवॉटर म्यूज़ियम बनने वाला है. सूत्रों की मानें तो,  भारतीय नौसेना अपने जहाज आईएनएस कुड्डालोर को पुडुचेरी कोस्ट से 7 किलोमीटर दूर पानी में डुबा देगी.

भारतीय नौसेना का ये Minesweeper जहाज़ तीन दशकों तक सेवा में रहा और इस दौरान आईएनएस कुडलोर ने 30 हजार नॉटिकल माइल्स की दूरी तय की. हालांकि, आईएनएस कुडलोर को मार्च 2018 में सेवामुक्त कर दिया गया था.underwater museum

बता दें कि, ये म्यूजियम बनाने के लिए एक पॉन्डीकैन एनजीओ और चेन्नई बेस्ड दो सरकारी लैबोरेट्रीज नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओसीन टेक्नोलॉजी और नेशनल सेंटर फॉर कोस्टल रिसर्च के साथ ही पुडुचेरी सरकार ने हाथ मिलाया है. वहीं, पॉन्डीकैन एनजीओ के अध्यक्ष प्रोबीर बनर्जी ने यह भी बताया कि पर्यटन और मछली उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय नेवी ने आईएनएस कुडलोर को गिफ्ट करने का फैसला लिया है.

पुडुचेरी

आईएनएस कुड्डालोर 60 मीटर लंबा और 12 मीटर चौड़ा है. इसे समुद्र में 26 मीटर नीचे डुबोया जाएगा. इसके बाद इसके दरवाज़े और खिड़कियां हटा दिए जाएंगे, ताकि समुद्री जीवों को जहाज के अंदर जाने में कोई परेशानी ना हो. इस म्यूजियम में पर्यटक आसानी से तैरकर जा सकेंगे और समुद्री जीवों के साथ तैराकी करने का मज़ा भी ले पाएंगें. वैसे, इन सबके लिए  पर्यटकों को सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए जाएंगे.

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, आईएनएस कुड्डालोर को डुबोने के बाद ही उसकी स्टील पर शैवाल जैसी चीजों की परत बननी शुरू हो जाएगी और फिर जहाज की बाहरी और अंदरूनी परत पर कुछ माइक्रो ऑर्गेनिज्म, शैवाल व पानी में उगने वाले पौधे उगाए जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *