बाबा नागर सेन का मंदिर
बाबा नागर सेन का मंदिर

भारत देश कई तरह की संस्कृतियों, रीतिरिवाजों, धर्म और परंपराओं के लिए जाना जाता है. जिस वजह से यह पूरी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बना पाने में सफल हो पाया है. वहीं, इस मंदिरों के देश में फिर कोई गरीब हो या अमीर, समाज का बड़ा तबका हो या निचला, हर कोई किसी ना किसी धार्मिक कर्मकांड से काफी गहराई से जुड़ा हुआ है. वहीं, आमतौर पर तो किसी पर अंडे फेंकना विरोध का या अपमानित करने का प्रतीक माना जाता है.

बाबा नागर सेन का मंदिर 1
बाबा नागर सेन का मंदिर 1

लेकिन, फिरोजाबाद के एक गांव में  बाबा नागर सेन का मंदिर है. जहां पर महिलाएं चढ़ावे के तौर पर अंडे फेंककर, अपने बेटों की लंबी उम्र की दुआएं मांगती हैं. हालांकि, इसके पीछे की वजह बेहद अजीबोगरीब है जिसे सुनकर आपको हैरानी ज़रूर होगी. दरअसल, यहां के स्थानीय लोगों का कहना है कि यह लगभग एक सदी पुरानी पंरपरा है और हर साल बैसाख महीने में बिलहना गांव में तीन दिन का एक मेला लगता है. जहां पर महिलाएं बाबा नागर सेन पर अंडे फेंकती है. हालांकि, यह प्रथा कब शुरू हुई इसका किसी को भी निश्चित रूप से नहीं पता है. लेकिन, वहां के स्थानीय लोगों में ऐसा विश्वास है कि ऐसा करने से अंडे के अंदर जो जीव होता है उसकी उम्र भी उनके लड़के की उम्र में जुड़ जाती है. इसलिए आप जितने अंडे चढ़ाएंगे बेटे की उम्र भी उतनी ही बढ़ जाएगी.’ 

Lord Nagarsen in Morena
Lord Nagarsen in Morena

वहीं, इस गांव के ग्राम प्रधान शैलेंद्र उपाध्याय का कहना है कि केवल इतना ही नहीं बल्कि जिन दंपतियों के बच्चे नहीं है वे भी इस मंदिर की दीवार पर अंडे फेंकते हैं. जिस वजह से हर साल वैशाख के महीने में यहां तीन दिनों तक भक्तों का तांता लगा ही रहता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *